aa-a-aa-a-aa
aa-a-a-aa-

Top News

સમાચાર WhatsApp પર મેળવવા માટે જોડાવ Join Now

कान का मेल निकालने का सही तरीका, गलती से भी सेफ्टी पिन के इस्तेमाल से बचें



हम रोज नहाते हैं, महीने में एक बार बाल भी कटवाते हैं। हर हफ्ते नाखून काटना न भूलें। लेकिन ज्यादातर बार हमें कानों को साफ करना याद नहीं रहता या यह कहा जा सकता है कि हमें कान का मैल निकालने का सही तरीका नहीं पता होता है। कान शरीर का एक बहुत ही आवश्यक अंग है। इसे नियमित रूप से साफ करने की जरूरत है। ऐसा नहीं करने पर जलन या संक्रमण होने का खतरा रहता है। कान का मैल साफ न करने से बहरापन भी हो सकता है। कुछ लोग कानों को साफ करने के लिए सेफ्टी पिन लगाते हैं। गलती से भी ऐसा ना करें। आज हम आपको बताएंगे कि कानों को आसानी से कैसे साफ किया जा सकता है।



कान में खुजली, नाक बहना या नहाते समय खुजली... ये सभी समस्याएं हैं जिनका हम सभी सामना करते हैं। सामान्य दिनों में कान में कोई भी समस्या होने पर हम तुरंत ईएनटी विशेषज्ञ के पास जाते हैं। लेकिन लॉकडाउन और कोरोना के समय में अस्पताल के बारे में सोच कर भी डर लगता है! ऐसे में अगर कान में ऐसी कोई समस्या हो तो घरेलू नुस्खों से कैसे दूर करें, जानिए यहां...

कान की देखभाल के घरेलू उपाय

कान की ज्यादातर समस्याएं नमी के कारण होती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि नहाते समय या हर समय ठंडे रहने पर हमारे कानों के अंदर की नसों में नमी जमा हो जाती है। इससे वहां फंगस और बैक्टीरिया पनपते हैं। जिसमें बहुत तेज खुजली हो।

मेल नहीं है मोम है 

हमें ऐसा लगता है कि हमारे कानों से मैल निकल रहा है। जबकि प्रभाव में यह गंदगी नहीं, बल्कि मोम है। वैक्स, जो हमारे कान का मैकेनिज्म है, अपनी सुरक्षा के लिए खुद को तैयार करता है।

अब आप सोच रहे होंगे कि यह वैक्स कानों की सुरक्षा कैसे करेगा... जरा सोचिए, चींटियों से लेकर मच्छरों तक कई छोटे-छोटे कीड़े होते हैं, जो हमारे कानों में घुसकर नुकसान पहुंचा सकते हैं।

ये कीटाणु कान में प्रवेश नहीं कर पाते हैं और अगर करते भी हैं तो मोम से चिपक जाते हैं और मर जाते हैं और हमारे कान के पर्दे तक नहीं पहुंच पाते... इसलिए यह मोम हमारे कानों में जमा हो जाता है. जब यह मोम अत्यधिक हो जाता है या बहुत पुराना हो जाता है, तो यह मोम कान के मेनिस्कस के माध्यम से ही बाहर धकेल दिया जाता है।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारा शरीर खुद को अंदर से साफ करता है। पुराने वैक्स में गंदगी, नमी, बैक्टीरिया पनपने से कान को कोई नुकसान नहीं होता इसलिए स्वाभाविक रूप से हमारा शरीर इस वैक्स को बाहर फेंक देता है और नया वैक्स बनाता है.

कानों को खुजली वाले बैक्टीरिया से कैसे बचाएं

अगर आपको कान में खुजली की समस्या है तो आप 1 चम्मच सरसों के तेल में लहसुन की एक कली और एक चुटकी अजवाइन को गर्म कर लें। जब मिश्रण ठंडा हो जाए तो इसे छान लें और इसे कान की बूंदों की तरह कानों में डालें और 20 से 25 मिनट के लिए करवट लेकर सो जाएं। ताकि तेल अंदर जा सके।

इस बीच, बिस्तर पर लेटते समय धीरे-धीरे अपने मुंह को ऐसे हिलाएं जैसे कि आप कुछ चबा रहे हैं और खा रहे हैं। इससे तेल आपके कान के अंदरूनी हिस्सों तक पहुंचेगा और मांसपेशियों की भी मालिश होगी। इस बात का ध्यान रखें कि अगर इस दौरान आपके कान में सर्दी और खुजली होती है तो आपको सरसों के तेल का इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं है।

कान दर्द के लिए इयर ड्रॉप्स – Ear pain drops in hindi

वैली नेचुरल इयर आयल (Wally’s natural ear oil)

कान दर्द दूर करने के लिए ये एक अच्छा नेचुरल आयल है जिसमें 6 कार्बनिक तत्व मौजूद होते हैं। वैली नेचुरल इयर आयल में मीठे बादाम, लहसुन, टी ट्री, नीलगिरी, और इचिनेशिया जैसे ख़ास हर्ब मिश्रित होते हैं जो दर्द को तुरंत दूर कर देते हैं। इसमें अरोमाथेरेपी ऑयल्स भी मौजूद हैं जो सूजन से राहत पहंचाते हैं।

सिमिल्सन इयर ड्रॉप एक होम्योपैथिक प्रोडक्ट है जो कान दर्द के साथ कान में खुजली, जलन, कान में पानी जमने की समस्या से भी राहत पहुंचाता है।

स्विम इयर ड्राइंग ऐड (Swim-ear drying ad)

यह कान दर्द के साथ सूजन की समस्या से भी छुटकारा दिलाता है। तैराक लोगों के लिए यह इयर ड्राप बहुत अच्छा है क्योंकि, यह कान के भीतर पानी चले जाने की वजह से होने वाले दर्द से छुटकारा दिलाता है।

स्विम इयर ड्रॉप में 95 प्रतिशत आइसोप्रोपिल अल्कोहल पाया जाता है जो अच्छा पेन किलर है। लेकिन, यह बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं है। हालांकि, इसमें मौजूद ग्लिसरीन बेस पूरी तरह से सुरक्षित है।

सिमिल्सन किड्स इयारे रिलीफ ड्रॉप्स (Similasan Kids Ear Relief Drops)

क्रिएशन फार्म इयर ड्रॉप के साथ आपको एक हर्बल तेल मिलता है जो कान में खुजली और कान के इन्फेक्शन को खत्म करने में सहायक है। यह बच्चों और बुजुर्ग दोनों के लिए सुरक्षित है।

ग्लिसरीन कान दर्द के लिए एक अच्छा पदार्थ है लेकिन यह मोटी होती है। इसलिए क्रिएशन फार्म इयर ड्रॉप्स में ग्लिसरीन की जगह ऑलिव ऑयल का प्रयोग किया गया है।

पावनी आयुर्वेद इयर आयल (Paavani Ayurveda ear oil)


पावनी इयर ड्रॉप 100 प्रतिशत कार्बनिक ऑयल है जो कान दर्द और खुजली की समस्या से छुटकारा दिलाता है। कानों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए भी इस ड्रॉप का इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि, यह कानों की नमी को बनाए रखता है। यह गर्म तासीर का इयर ड्रॉप है जो कान में गर्माहट पहुंचाता है। इसमें तिल का तेल और लैवेंडर ऑयल मिश्रित होता है।

कुछ लोगों में इयर ड्रॉप के उपयोग से ये साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं-

  • कान में जलन
  • कान की त्वचा में लाल चकत्ते पड़ना
  • इयर ड्रॉप्स में कई आयुर्वेदिक पदार्थ और केमिकल मौजूद हो सकते हैं, जो एलर्जी की संभावना पैदा कर सकते हैं। इसकी वजह से कान में खुजली हो सकती है।
  • जीभ या गले में सूजन
  • चक्कर आना
  • साँस लेने में तकलीफ
  • अल्कोहल युक्त इयर ड्राप का इस्तेमाल बच्चों के लिए किया जाए तो कान की त्वचा त्वचा लाल होना और जलन की समस्या हो सकती है।
  • सिरदर्द
  • बहरापन
निष्कर्ष- Conclusion

ऊपर बताए गए इयर ड्रॉप कान दर्द को दूर करने में सक्षम हैं और पूरी तरह से सुरक्षित भी है। लेकिन, कुछ लोगों में इसके साइड इफेक्ट्स नजर आ सकते हैं। इसलिए किसी भी इयर ड्राप का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह बिना न करें। अगर ऊपर बताए गए दुष्प्रभाव नजर आते हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

(ये आर्टिकल में सामान्य जानकारी आपको दी गई है अगर आपको किसी भी उपाय को apply करना है तो कृपया Expert की सलाह अवश्य लें)

Post a Comment

Previous Post Next Post