aa-a-aa-a-aa
aa-a-a-aa-
સમાચાર WhatsApp પર મેળવવા માટે જોડાવ Join Now

लोन लेकर फ्लैट खरीदना बेहतर है या किराए पर रहना? - जानिए एक्सपर्ट क्या कहते है



अपना Home (घर) बनाने का सपना हर भारतीय का होता है। काम करने वाला अपनी छोटी बड़ी ख़्वाहिशों को छोड़ एक एक रुपया बचाता है और अपने सपनों का घर बनाता है। मेट्रो शहरों में प्रॉपर्टी खरीदना लगातार मुश्किल होता जा रहा है। दिल्ली-NCR जैसे आज के हॉट रियल एस्टेट स्पॉट में, 2 BHK घर खरीदना अब आसान काम नहीं है। इसके लिए कम से कम 50 लाख रुपए खर्च करने होंगे। ऐसे में जानकारों का कहना है कि अगर आप मेट्रो शहरों में घर खरीदने के बजाय किराए पर रहते हैं तो यह ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है।
लोन लेकर फ्लैट खरीदना बेहतर है या किराए पर रहना? - जानिए एक्सपर्ट क्या कहते है



Buying House (घर खरीदना) हमेशा एक भावनात्मक फैसला होता है। अधिकांश लोग अपना घर खरीदना चाहते हैं ताकि उनका परिवार एक छत के नीचे रहने के लिए सुरक्षित हो सके। लेकिन भावनाओं से इतर, किराए पर लेना आपके लिए अधिक फायदे का सौदा साबित हो सकता है। यह सुनकर आपको यकीन नहीं होगा, लेकिन आज हम आपको एक साधारण गणना के जरिए बताएंगे कि Metro City (मेट्रो शहरों) में अपना घर खरीदना या Stay on Rent (किराए पर रहना) और निवेश की रणनीति बनाना ज्यादा फायदेमंद है।

पहले घर खरीदने की मूल बातें समझें

मान लीजिए कि आप दिल्ली-NCR में एक घर खरीदना चाहते हैं, तो आपको 2BHK फ्लैट के लिए औसतन 50 लाख रुपये खर्च करने होंगे। एक मध्यमवर्गीय कामकाजी आदमी मुश्किल से 10 से 20 प्रतिशत डाउन पेमेंट दे पाता है। अगर आप 20 फीसदी यानी 10 लाख रुपये डाउन पेमेंट करते हैं तो आपको घर के लिए 40 लाख रुपये का कर्ज लेना होगा। ऊपर से रजिस्ट्री, स्टांप ड्यूटी और ब्रोकरेज चार्जेज अलग-अलग हैं। अगर आपने घर खरीदा है तो आपको फर्नीचर भी सेट करना होगा। इन सभी कामों में आप आसानी से 5 लाख रुपए तक खर्च कर सकते हैं।

इस प्रकार, आपने अपनी जेब से 15 लाख रुपये तक खर्च किए और दिल्ली-NCR में 2 BHK फ्लैट में रहने के लिए 40 लाख रुपये का बैंक ऋण लिया। मौजूदा समय में ब्याज दरें काफी ज्यादा हैं और अगर यह रकम आपको 9 फीसदी ब्याज पर भी 20 साल तक मिलती है तो आपको 35,989 रुपये प्रति माह की EMI चुकानी होगी। आप पूरे कार्यकाल के दौरान ब्याज के रूप में कुल 46,37,369 रुपये का भुगतान करेंगे। इतना ही नहीं, आप अगले 20 साल तक कर्ज चुकाने के लिए बाध्य होंगे।

अब निवेश का गणित देखिए

अब अगर आप अपनी मासिक EMI की रकम 35,989 रुपये और एकमुश्त 15 लाख रुपये SIP में निवेश करते हैं तो आपको 20 साल में कितना रिटर्न मिलेगा। सबसे पहले बात करते हैं SIP की। अगर आप 20 साल तक हर महीने SIP में 35,989 रुपये का निवेश करते हैं तो आपका कुल निवेश 86,37,360 रुपये होगा। यदि आप इस पर 12% रिटर्न जोड़ते हैं, तो आप केवल ब्याज के रूप में 2,73,20,974 रुपये जमा करेंगे, जबकि कुल राशि बढ़कर 3,59,58,334 रुपये हो जाएगी।

अब देखते हैं एकमुश्त निवेश करने पर 15 लाख का रिटर्न। इस पर भी अगर 12 फीसदी के औसत रिटर्न को देखें तो 20 साल में आपको ब्याज के तौर पर सिर्फ 1.3 करोड़ रुपए मिलेंगे, जबकि आपकी कुल रकम बढ़कर 1.45 करोड़ रुपए हो जाएगी। इस तरह आप कर्ज का भुगतान करते हुए घर खरीदने की राशि को 5.04 करोड़ रुपये तक बढ़ा सकते हैं। यानी आपने सिर्फ EMI और डाउन पेमेंट की रकम निवेश कर 5 करोड़ का फंड तैयार किया है।

घर की कीमत कितनी बढ़ेगी?

प्रॉपर्टी मार्केट का रेट हर साल 10 फीसदी की दर से बढ़ रहा है। ऐसे में अगर आज फ्लैट 50 लाख का है तो 10 साल बाद 1 करोड़ और 20 साल बाद 2 करोड़ का हो जाएगा। अगर आपके पास 5 करोड़ का फंड है तो आप वही फ्लैट खरीदकर भी 3 करोड़ रुपए बचा सकते हैं। इसके अलावा, यह ध्यान देने योग्य है कि आज खरीदा गया घर अब से 20 साल बाद एक नए घर के बराबर नहीं हो सकता है। इसलिए जानकारों का कहना है कि घर खरीदने से बेहतर है कि आप किराए पर रहें।

(ये आर्टिकल में सामान्य जानकारी आपको दी गई है अगर आपको किसी भी उपाय को apply करना है तो कृपया Expert की सलाह अवश्य लें)

Post a Comment

Previous Post Next Post