aa-a-aa-a-aa
aa-a-a-aa-

Top News

સમાચાર WhatsApp પર મેળવવા માટે જોડાવ Join Now

एक बार इस पेड़ को लगाओ और 30-40 साल तक कमाओ




रबर के पेड़ मिट्टी में पनपते हैं जो गहरी, अच्छी जल निकासी वाली और कार्बनिक पदार्थों से भरपूर होती हैं। रबर की खेती के लिए आदर्श मिट्टी 4.5 से 7.0 की पीएच रेंज वाली दोमट मिट्टी होती है। अच्छी जल निकासी वाली रेतीली मिट्टी और अच्छी आंतरिक जल निकासी वाली चिकनी मिट्टी भी रबर की खेती के लिए उपयुक्त हो सकती है। इसके अतिरिक्त, रबर के पेड़ों को बहुत अधिक नमी की आवश्यकता होती है, इसलिए मिट्टी में जल-धारण क्षमता अच्छी होनी चाहिए, लेकिन यह जल-जमाव वाली या बाढ़ की संभावना वाली नहीं होनी चाहिए। मिट्टी जो नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होती है, रबर की खेती के लिए भी आदर्श होती है।



रबर की खेती कैसे की जाती है?


रबर की खेती मुख्य रूप से टैपिंग नामक एक प्रक्रिया के माध्यम से की जाती है, जहां रबर के पेड़ से लेटेक्स, एक दूधिया तरल पदार्थ निकाला जाता है। रबर की खेती में शामिल चरण इस प्रकार हैं:

  1. स्थान का चयन रबड़ की खेती में पहला कदम रोपण के लिए एक उपयुक्त स्थान का चयन करना है। रबर की खेती के लिए आदर्श स्थान में अच्छी जल निकासी वाली, दोमट मिट्टी होनी चाहिए जिसका पीएच 4.5 से 7.0 के बीच हो और पर्याप्त वर्षा हो।

  2. रोपण: रबर के पेड़ की किस्म के आधार पर रबर के पेड़ 6 x 6 मीटर या 8 x 8 मीटर की दूरी पर लगाए जाते हैं। रोपण आमतौर पर मानसून के मौसम में किया जाता है, जब मिट्टी नम होती है।

  3. टैपिंग: रोपण के लगभग 5-7 वर्षों के बाद, रबर का पेड़ लेटेक्स का उत्पादन करना शुरू कर देता है। लेटेक्स को एक विशेष चाकू का उपयोग करके पेड़ की छाल पर उथला कट बनाकर निकाला जाता है, और लेटेक्स को इकट्ठा करने के लिए एक कप लगाया जाता है। लेटेक्स कप में प्रवाहित होता है और प्रतिदिन एकत्र किया जाता है।

  4. प्रसंस्करण: एकत्रित लेटेक्स को फिर पानी और अन्य अशुद्धियों को दूर करने के लिए संसाधित किया जाता है। संसाधित लेटेक्स को फिर चादरों में दबाया जाता है और सुखाया जाता है, जिसके बाद इसे पैक करके बाजार में पहुँचाया जाता है।

  5. रखरखाव: रबर के पेड़ों को नियमित रखरखाव की आवश्यकता होती है जैसे छंटाई, निषेचन और रोग नियंत्रण। मृत और रोगग्रस्त शाखाओं को हटाने के लिए पेड़ों की छंटाई की जाती है, और आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करने के लिए उर्वरकों का प्रयोग किया जाता है। पेड़ों को नुकसान से बचाने के लिए कीट और रोग नियंत्रण के उपाय भी किए जाते हैं।

  6. पुन: रोपण: लगभग 25-30 वर्षों के बाद, रबर का पेड़ लेटेक्स का उत्पादन बंद कर देता है और इसे हटा दिया जाता है। खेती की प्रक्रिया को जारी रखने के लिए इसके स्थान पर नए पेड़ लगाए जाते हैं।

कुल मिलाकर, रबर की खेती एक श्रम-गहन प्रक्रिया है जिसमें अच्छी उपज सुनिश्चित करने के लिए नियमित रखरखाव और प्रबंधन की आवश्यकता होती है।

रबर की खेती भारत के किन राज्यों में होती है?


रबड़ की खेती भारत के कई राज्यों में की जाती है। भारत में प्रमुख रबर उत्पादक राज्य केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक और पूर्वोत्तर राज्य जैसे असम, त्रिपुरा और मेघालय हैं।

केरल भारत का सबसे बड़ा रबर उत्पादक राज्य है, जो देश के कुल रबर उत्पादन का 90% से अधिक का उत्पादन करता है। तमिलनाडु दूसरा सबसे बड़ा रबर उत्पादक राज्य है, जिसके बाद कर्नाटक है। असम, त्रिपुरा और मेघालय सहित भारत के पूर्वोत्तर राज्य भी महत्वपूर्ण मात्रा में रबर का उत्पादन करते हैं।

इन राज्यों के अलावा, रबर की खेती महाराष्ट्र, गोवा, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में भी की जाती है। हालांकि, प्रमुख रबर उत्पादक राज्यों की तुलना में इन राज्यों में रबर का उत्पादन अपेक्षाकृत कम है।


रबर का निर्यात कई देशों में होता है


भारत और अन्य रबर उत्पादक देशों से कई देशों को रबर का निर्यात किया जाता है। रबड़ के प्रमुख उपभोक्ता देश चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान और स्वयं भारत हैं। भारत प्राकृतिक रबर का एक महत्वपूर्ण निर्यातक है, जिसके प्रमुख निर्यात स्थल चीन, जर्मनी, तुर्की, संयुक्त राज्य अमेरिका और ब्राजील हैं।

प्राकृतिक रबर के अलावा सिंथेटिक रबर भी विभिन्न देशों को निर्यात किया जाता है। प्रमुख सिंथेटिक रबर निर्यातक देश जापान, दक्षिण कोरिया, चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका और जर्मनी हैं। रबड़ की मांग ऑटोमोटिव, निर्माण और उपभोक्ता वस्तुओं जैसे विभिन्न उद्योगों द्वारा संचालित होती है। इसलिए, रबर का निर्यात कई देशों की अर्थव्यवस्थाओं का एक महत्वपूर्ण घटक है।


रबर के पेड़ कब तक लाभदायक हैं?


रबर के पेड़ लंबे समय तक लाभदायक हो सकते हैं यदि उनका अच्छी तरह से रखरखाव और प्रबंधन किया जाए। रबड़ के पेड़ का जीवनकाल लगभग 25-30 वर्ष होता है, और इस अवधि के दौरान, पेड़ लेटेक्स का उत्पादन कर सकता है जिसे नियमित रूप से काटा जा सकता है।

रबर का पेड़ रोपण के लगभग 5-7 वर्षों के बाद लेटेक्स का उत्पादन करना शुरू कर देता है, और उपज धीरे-धीरे उम्र के साथ बढ़ती जाती है। अधिकतम उपज आमतौर पर 10-20 वर्षों के बीच प्राप्त होती है, जिसके बाद उपज में गिरावट शुरू हो जाती है। हालांकि, नियमित छंटाई, निषेचन और रोग नियंत्रण जैसे अच्छे प्रबंधन के तरीकों से उपज को लंबे समय तक बनाए रखा जा सकता है।

रबर के पेड़ का आर्थिक जीवन समाप्त होने के बाद, पेड़ को हटाया जा सकता है और उसके स्थान पर नए पेड़ लगाए जा सकते हैं। इसलिए, रबर की खेती एक लाभदायक और टिकाऊ गतिविधि हो सकती है यदि वृक्षारोपण अच्छी तरह से बनाए रखा जाए और ठीक से प्रबंधित किया जाए।

क्या भारत में सरकार कोई वित्तीय सहायता प्रदान करती है?


भारत में सरकार विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों के माध्यम से रबड़ उत्पादकों को वित्तीय सहायता प्रदान करती है।

रबर बोर्ड, भारत सरकार के वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के तहत एक वैधानिक निकाय, रबर उत्पादकों को सब्सिडी, प्रोत्साहन और अन्य सहायता कार्यक्रमों के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान करता है। कुछ प्रमुख योजनाएँ और कार्यक्रम हैं:

  1. रबर उत्पादन प्रोत्साहन योजना (RPIS): इस योजना के तहत रबर उत्पादकों को उत्पादन लागत पर सब्सिडी के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। दो हेक्टेयर से कम जमीन वाले छोटे किसानों को सब्सिडी दी जाती है।

  2. पुनर्रोपण और नई रोपण योजना: यह योजना रबर उत्पादकों को रबर के पेड़ों को फिर से लगाने और नए रोपण के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है। रोपण सामग्री की लागत, भूमि की तैयारी और अन्य संबंधित खर्चों पर सब्सिडी के रूप में सहायता प्रदान की जाती है।

  3. रबड़ विकास कोष (आरडीएफ): आरडीएफ भारत सरकार द्वारा रबर उद्योग के विकास के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए बनाया गया एक कोष है। फंड का उपयोग विभिन्न गतिविधियों जैसे अनुसंधान और विकास, विस्तार सेवाओं और बुनियादी ढांचे के विकास के लिए किया जाता है।

  4. मूल्य स्थिरीकरण कोष: मूल्य स्थिरीकरण कोष भारत सरकार द्वारा प्राकृतिक रबर की कीमतों को स्थिर करने के लिए बनाया गया एक कोष है। निधि का उपयोग उत्पादकों से रबर खरीदने के लिए किया जाता है जब कीमतें एक निश्चित स्तर से नीचे गिरती हैं, और कीमतों में वृद्धि होने पर रबर को बाजार में जारी किया जाता है।

इन योजनाओं के अलावा, सरकार कीट और रोग नियंत्रण, प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण, और बुनियादी ढांचे के विकास जैसी विभिन्न गतिविधियों के लिए रबर उत्पादकों को सहायता भी प्रदान करती है।

जानकारी अच्छी लगी हो तो दूसरो तक पहुचाये.


(ये आर्टिकल में सामान्य जानकारी आपको दी गई है अगर आपको किसी भी उपाय को apply करना है तो कृपया Expert की सलाह अवश्य लें)

Post a Comment

Previous Post Next Post