aa-a-aa-a-aa
aa-a-a-aa-
સમાચાર WhatsApp પર મેળવવા માટે જોડાવ Join Now

स्पेस से आने में क्यों देरी लग रही है सुनीता विलियम्स को?कैसे फांसी है अंतरिक्ष में?



सिर्फ आठ दिनों के लिए अंतरिक्ष में गई सुनीता विलियम्स और बुश बिलमोर को अब स्पेस में गए हुए तीन हफ्ते से ज्यादा का वक्त बीत चुका है। कई बार इनकी वापसी की तारीख नासा ने तय की, बताई, लेकिन इनकी वापसी नहीं हो सकी। अमेरिका की ओर से विशेष मिशन पर अंतरिक्ष स्टेशन पर भेजे गए अंतरिक्ष यात्रियों का एक दल स्पेसक्राफ्ट में खराबी आने के कारण फंस गया। इसे लेकर अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने कहा कि उसके दो अंतरिक्ष यात्री अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर अभी और अधिक वक्त तक रुकने वाले हैं, क्योंकि वह वहां पर अपनी यात्रा के दौरान बोइंग के नए अंतरिक्ष कैप्सूल में आई तकनीकी खराबी को ठीक कर रहे हैं। 

स्पेस से आने में क्यों देरी लग रही है सुनीता विलियम्स को?कैसे फांसी है अंतरिक्ष में?

आज जानने की कोशिश करेंगे कि क्यों हुआ स्पेसक्राफ्ट खराब?
क्या है स्टार लाइनर? क्रू पायलट स्पेसक्राफ्ट वापसी में आखिरकार देर क्यों हो रही है ?


सबसे पहले वजह जानते हैं कि आखिरकार स्पेसक्राफ्ट में ऐसी कौन सी खराबी आई ? इसके पीछे की वजह क्या है ?


बताया यह जा रहा है कि स्पेसक्राफ्ट को स्पेस स्टेशन तक ले जाते समय हीलियम गैस के रिसाव और थ्रस्टर्स में कुछ खराबी आ गई थी। 5 जून को स्पेसक्राफ्ट को लॉन्च किया गया था और जब स्टार लाइनर स्पेसक्राफ्ट एटलस वि रॉकेट से लॉन्च हुआ था तो उससे पहले ही मिशन टीम को हीलियम गैस के रिसाव का पता चल चुका था। हीलियम गैस का रिसाव रुका नहीं था और इसके बावजूद इसे लॉन्च कर दिया गया। यह सारी दिक्कतें स्टार लाइनर के सर्विस मॉड्यूल में आई थी जो कि स्पेसक्राफ्ट के निचले हिस्से में लगा होता है और यहीं से उड़ान के दौरान ज्यादातर पावर मिलती है स्पेसक्राफ्ट को। 


अब जानते हैं कि क्या होता है स्टार लाइनर क्रू फ्लाइट टेस्ट स्पेसक्राफ्ट?

दरअसल जिस स्पेस कैप्सूल से दोनों अंतरिक्ष यात्री गए हैं उन्हें स्टार लाइनर क्रू फ्लाइट टेस्ट स्पेस क्राफ्ट कहा जाता है। जो एक स्पेस कैप्सूल है। यह कैप्सूल अंतरिक्ष में यात्रियों को लो अर्थ ऑर्बिट तक ले जाने के लिए तैयार होता है। आपको बता दें कि लो अर्थ ऑर्बिट का दायरा धरती से करीब 2000 किमी की ऊंचाई तक होता है। इस कैप्सूल को 10 बार तक इस्तेमाल किया जा सकता है। और हर बार इस्तेमाल करने के बाद इसे दोबारा तैयार करने में सिर्फ 6 महीने का वक्त लगता है। 

अब इनकी वापसी में देरी क्यों हो रही है?

इसकी वजह भी जान लेते हैं। दरअसल दोनों अंतरिक्ष यात्रियों को वापस लाने में देरी इसलिए हो रही है क्योंकि बोइंग और अंतरिक्ष एजेंसी नासा न्यू मेक्सिको में कुछ रिसर्च और टेस्ट करना चाहते हैं। इससे वह यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर अंतरिक्ष यात्रा के दौरान स्टार लाइनर के कुछ थ्रस्टर्स अचानक ही खराब कैसे हो सकते हैं ? ऐसा कैसे हुआ ? पांच थ्रस्टर्स में से चार को तो बाद में ठीक कर लिया गया लेकिन अब एक खराब है। यानी एक को अभी तक ठीक नहीं किया जा सका है और पूरे मिशन में यही काम नहीं करेगा। वापसी के वक्त सर्विस मॉड्यूल का कुछ हिस्सा जलकर नष्ट हो जाएगा। 


अब इन  दोनों अंतरिक्ष यात्रियों की वापसी की नई  तारीख नासा क्या देगा यह तो देखना होगा फिलहाल कोई तारीख सामने नहीं आई है ऑफिशियल। 


आपको क्या लगता है कब तक यह दोनों अंतरिक्ष यात्री वापस धरती पर आ जाएंगे ?

सही सलामत और इनकी रिसर्च कितनी मददगार साबित होगी दुनिया के लिए ?



(ये आर्टिकल में सामान्य जानकारी आपको दी गई है अगर आपको किसी भी उपाय को apply करना है तो कृपया Expert की सलाह अवश्य लें)

Post a Comment

Previous Post Next Post